Posts Slider

September 27, 2022

Common View

सच के साथ

राष्ट्रपति पद की NDA उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू बनी भारत की राष्ट्रपति, विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को हराया.

देश के सर्वोच्च पद यानी राष्ट्रपति पद के लिए आज 18 जुलाई को मतदान संपन्न हो गया. रामनाथ कोविंद का कार्यकाल पूरा होने के बाद अब देश को नया राष्ट्रपति मिल गया. भाजपा की ओर से राष्ट्रपति पद के लिए महिला उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू हैं तो वहीं विपक्ष की तरह से यशवंत सिन्हा को उम्मीदवार बनाया गया है. द्रौपदी मुर्मू 24 जून को अपना नामांकन दाखिल कि थीं. भाजपा की महिला उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू चुनाव जीतने के बाद वह भारत की दूसरी महिला राष्ट्रपति बन गयीं हैं. बता दें कि इसके पहले प्रतिभा पाटिल को भारत की पहली महिला राष्ट्रपति होने का गौरव प्राप्त हुआ था. एक बार फिर एक महिला देश के सर्वोच्च पद पर आसीन हो गयी हैं.

द्रौपदी मुर्मू का जीवन संघर्षमय रहा. द्रौपदी मुर्मू उड़ीसा की आदिवासी महिला नेता हैं और झारखंड की गवर्नर रह चुकी हैं. द्रौपदी मुर्मू का जन्म ओडिशा के मयूरभंज जिले में 20 जून 1958 को एक आदिवासी परिवार में हुआ था. उनके पिता का नाम बिरंची नारायण टुडू था, जो अपनी परंपराओं के मुताबिक, गांव और समाज के मुखिया थे. द्रौपदी मुर्मू का विवाह श्याम चरण मुर्मू से हुआ, जिससे उनके दो बेटे और एक बेटी हुई. बाद में उनके दोनों बेटों का निधन हो गया और पति भी छोड़कर पंचतत्व में विलीन हो गए. बच्चों और पति का साथ छूटना द्रौपदी मुर्मू के लिए कठिन दौर था लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और समाज के लिए कुछ करने के लिए राजनीति में कदम रखा और आज देश के सर्वोच्च पद यानी राष्ट्रपति पद पर आसीन हो गयी.

रिपोर्ट: मनीष पाठक, अशोक कुमार(सोनू)