पटना में प्रशासन द्वारा झुगी झोपड़ी हटाने के दौरान राजेश ठाकुर की हुई मौत पर CPIM ने सरकार और प्रशासन पर बोला हमला.

                                      मलाही पकड़ी मोड़ के पास प्रशासन द्वारा झुगी झोपड़ी हटाने के दौरान राजेश ठाकुर के मौत की निन्दा.
स्मार्ट सिटी के नाम पर पटना शहर के कई इलाकों से झुगी झोपड़ी को हटाया जा रहा है इसी दौरान 5 अक्टूबर को मलाही पकड़ी मोड़ के पास प्रशासन द्वारा हटाने के दौरान लाठी चार्ज किया था, जिससे आज राजेश ठाकुर की मौत हो गई. मौत की खबर सुनते ही सीपीआई, सीपीएम, माले के कार्यकर्ता ने सड़क जाम किया तथा विरोध प्रकट किया. प्रशासन ने मुआवजा देने का वादा किया.

प्रतीकात्मक तस्वीर

सीपीआईएम पटना जिला सचिव मनोज कुमार चंद्रवंशी ने निम्नलिखित प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि स्मार्ट सिटी के नाम पर पिछले चार वर्षो से पटना में बसे बेघरों के झोपड़ियों को उजाड़ कर पटना से भगाने की कोशिश की जा रही है. पटना के विकास में सड़क गली का निर्माण हो या शहर की सफाई इन्हीं तबकों से होता है. इधर- उधर अपना आशियाना लगाकर जीवन यापन करते हैं. झोपड़ियों में रहने वाले अधिकतर अनुसूचित जाति एवं अत्यंत पिछड़ी जाति के समुदाय से आते हैं.

प्रतीकात्मक तस्वीर

राज्य सरकार और जिला प्रशासन बिना वैकल्पिक व्यवस्था किए गरीबों के झोपड़ियों को उजाड़ कर इन लोगो पर दमन कर रही है. सीपीआईएम ने पिछले दिनों पटना के जिला पदाधिकारी के समक्ष प्रदर्शन कर पटना के हर इलाके में बसे बेघरों की सूची जिला पदाधिकारी को सौंपी थी, जिला प्रशासन बेघरों को बसाने का आश्वासन दिया था. लेकिन जिला प्रशासन विभागीय पत्र के अलावा कोई ठोस कदम नहीं उठाई. राज्य सरकार एवम् जिला प्रशासन अविलंब झोपड़ियों को उजाड़ ना बंद करे तथा बेघरों को जल्द जमीन आवास आवंटित किया जाए.

रिपोर्ट: बिक्रांत रॉय 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed