वाम दलों ने 27 सितम्बर को भारत बंद सफल बनाने का किया आह्वान.

केन्द्र सरकार द्वारा भारत की सार्वजनिक सम्पदा को बेचने पर रोक लगाने के लिये संघर्ष तेज करें

उत्तर बिहार के बाढ़ पीड़ितों को तत्काल राहत एवं पुनर्वास की व्यवस्था करो 

वायरल बुखार से पीड़ित बच्चों की जीवन रक्षा के लिये तत्काल कदम उठाओं 

वामपंथी दलों सी.पी.आई.(एम.), सीपीआई, भाकपा(माले), फारवर्ड ब्लाॅक, आर.एस.पी. के राज्य नेतृत्व की बैठक सीपीआई(एम.) के जमाल रोड, पटना स्थित राज्य कार्यालय में सम्पन्न हुआ। बैठक की अध्यक्षता सीपीआई(एम) के राज्य सचिव काॅ॰ अवधेश कुमार ने की। बैठक में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर आयोजित 27 सितम्बर को अखिल भारतीय ‘‘भारत बंद’’ के सिलसिले में बिहार बंद के प्रति पूर्ण समर्थन व्यक्त करते हुए, बंद में वामपंथी दलों की जिला इकाइयों एवं स्थानीय इकाइयों को बंद को सफल बनाने में सक्रिय भूमिका निभाने का आह्वान किया गया। वामपंथी दलों ने इस बात पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा ने भारत बंद के सिलसिले में कृषि के तीन काले कानूनों की वापसी के अलावे मजदूर कानूनों के बदले मजदूर संहिता लागू करने, सार्वजनिक सम्पत्ति को बेचने, महंगाई, बेरोजगारी जैसे तमाम मुद्दों को अपने आंदोलन का हिस्सा बनाया है।

बिहार में बाढ़ की विनाष लीला से पूरा उत्तर बिहार तबाह हो गया है। घर-बार, खेत-खलिहान, बगीचे पानी में डूब गये हैं और जान-माल की भयंकर क्षति हुई है। सरकार ने बाढ़ पीड़ितों को भाग्य भरोसे छोड़ दिया है। उसी तरह वायरल बुखार की मार से सैकड़ों बच्चे अस्पतालों में जीवन-मौत की लड़ाई लड़ रहे हैं और राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था उन बच्चों का जान बचाने में अक्षम साबित हुई है। वाम पंथी दलों ने इस संबंध में बाढ़ पीड़ितों को तत्काल सहायता पुनर्वास एवं फसल क्षति का मुआबजा देने की मांग करती है। ये तमाम मुद्दें हैं जिसको लेकर वामपंथी दल लगातार संघर्ष के मैदान में हैं। अतः स्वाभाविक तौर पर वामपंथी दल इस बंद को सफल बनाने के लिये आम जनता के तमाम तबकों को गोलबंद करने में अग्रणी भूमिका निभायेंगे।

बैठक में सभी जिलों की जिला कमिटियों को तत्काल बैठक आयोजित कर व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार एवं परिचर्चाओं का आयोजन कर बंद के बारे में आमलोगों को इस मुद्दों से परिचित कराने एवं उन्हें बंद में शामिल होने के लिये गोलबंद करने का आह्वान किया। इस सिलसिले में महागठबंधन के प्रमुख दलों राजद, कांग्रेस आदि के साथ बातचीत कर बंद में उनकी सक्रिय भागीदारी के लिये अनुरोध किया जायेगा। बैठक में अगामी 26 सितम्बर को सभी जिलों में मशाल जुलूश निकालने तथा 27 सितम्बर को बंद में बड़ी संख्या में जन गोलबंदी के जरिये बंद को सफल बनाने का फैसला लिया गया।

बैठक में सीपीआई(एम) के राज्य सचिव अवधेश कुमार, केन्द्रीय कमिटी सदस्य अरूण कुमार मिश्र, राज्य सचिवमंडल सदस्य ललन चैधरी, गणेष शंकर सिंह, सीपीआई के राज्य सचिव रामनरेश पाण्डे, प्रमोद प्रभाकर, जीतेन्द्र, सीपीआई(माले) के राज्य सचिव काॅ॰ कुणाल, पोलिट ब्यूरो सदस्य धीरेन्द्र झा एवं वरिष्ठ नेता के.डी. यादव तथा फारवर्ड ब्लाॅक के अमरीका महतो शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed