Posts Slider

January 21, 2022

Common View

सच के साथ

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव और आगामी लोकसभा चुनाव की रणनीति बनाने में लगी भाजपा, कांग्रेस के आरोपों को कर रही दरकिनार.

रिपोर्ट: दीपक ओझा  

पहले कांग्रेस भले ही राफेल सौदे को मुद्दा बनाने की कोशिश कर रही हो, लेकिन भाजपा इसे ज्यादा तवज्जो नहीं दे रही है. भाजपा पांच राज्यों में जहाँ चुनाव होने हैं वहाँ कांग्रेस की पिछली व मौजूदा सरकारों  के कामकाज की तुलना जनता के सामने रख रही है, ताकि जनता जान सके कि कौन बेहतर है. वह विभिन्न मुद्दों पर कांग्रेस के साथ ज्यादा उलझने के बजाय सामाजिक समीकरणों पर ज्यादा जोर दे रही है. खासकर पिछड़ा वर्ग पर जिससे खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आते हैं. 

सवर्ण जाती की नाराजगी 
भाजपा सामाजिक समीकरणों को साधने पर ज्यादा जोर दे रही है. सवर्ण जाति की नाराजगी को दूर करने और दलित – पिछड़ा समीकरण उसकी रणनीति के केंद्र में है. पार्टी के नेता व कार्यकर्ता लोगों को बता रहे है कि देश को मुश्किल से एक मजबूत पिछड़ा वर्ग का प्रधानमंत्री मिला है, जिसे विरोधी दल मिलकर कमजोर करना चाहते हैं।  

स्थानीय मुद्दों को भूलने से भाजपा को लाभ

पांच में से चार राज्यों में उसका सीधा मुकाबला कांग्रेस से है. उनको लग रहा था कि कांग्रेस स्थानीय मुद्दों पर हमलावर होकर सरकार विरोधी माहौल (तीन राज्यों में भाजपा सरकारें) बनाने का काम करेगी, लेकिन वह राफेल में ज्यादा उलझ गई है.ऐसे में  भाजपा को लाभ मिलने की संभावना है.

रालोसपा भी मोदी सरकार के पक्ष में  
केंद्रीय मंत्री एवं राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने केंद्र में सत्तारूढ़ राजग का साथ छोड़ने की अटकलों को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि उनकी पार्टी राजग के साथ मजबूती से खड़ी है. देशहित में अगले पांच वर्षों के लिए नरेन्द्र मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाने की खातिर प्रतिबद्ध है. हम राजग को मजबूत बनाने के लिए लगे हैं और लगे रहेंगे.  

उज्ज्वला चाय और रसोई से महिला मतदाता को लुभाएंगे
अगले वर्ष के लोकसभा चुनाव और पञ्च राज्यों में लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए भाजपा महिला मतदाताओं पर खास ध्यान दे रही है. इसके तहत पार्टी हर बूथ पर पांच महिलाओं की टोली का गठन करने के साथ उज्ज्वला की चाय एवं उज्ज्वला की रसोई पहल को आगे बढ़ा रही है. भाजपा महिला मोर्चा हर बूथ पर पांच-पांच महिला कार्यकर्ताओं की टोली बनाकर केंद्र सरकार योजनाओं को लोगों तक पहुंचाने की रणनीति पर काम कर रही है.